blogid : 7002 postid : 390

क्या टीम इंडिया की मुख्य तीन समस्याएं टल गईं

Posted On: 16 Nov, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अहमदाबाद के सरदार पटेल स्टेडियम में भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहले दिन जहां एक तरफ वीरेंद्र सहवाग ने 117 पारी खेली वहीं दूसरे दिन चेतेश्वर पुजारा ने भी शानदार दोहरा शतक जमाया. उन्होंने 389 गेंदों का सामना करके 21 चौके की मदद से अपना दोहरा शतक पूरा किया. युवराज सिंह ने भी धैर्यपूर्ण बल्लेबाजी करते हुए अपना अर्धशतक पूरा कर लिया. टीम इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ 8 विकेट पर 521 रन बनाकर अपनी पारी घोषित कर दी है. भारत के स्कोर को पांच सौ के पार ले जाने में जिन तीन खिलाड़ियों का योगदान रहा उनकी यह पारी काफी कुछ मायने रखती है.


Read: क्या राहुल द्रविड़ का स्थान ले पाएंगे चेतेश्वर पुजारा ?


pujaraचेतेश्वर पुजारा: भारत के इस उदीयमान खिलाड़ी की जितनी तारीफ की जाए उतनी ही कम है. राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण के संन्यास के बाद यह कयास लगाया जा रहा था कि टेस्ट के इन दो दिग्गजों का विकल्प कौन होगा जो इनकी जगह लेगा. हर तरफ यह चर्चा हो रही थी कि टेस्ट में तीन नंबर पर भारत को क्या वह दीवार मिल पाएगा जिसने कई सालों तक भारत को हार से बचाने और जीत दिलवाने में अपना अहम योगदान दिया लेकिन चेतेश्वर पुजारा ने उन सभी अटकलों को दूर कर दिया. पिछले कुछ पारियों पर नजर डालें तो पुजारा ने अपनी बल्लेबाजी में वह सूझबूझ दिखाई है जिसकी भारत को तलाश थी. इस खिलाड़ी को टेस्ट मैच का ज्यादा अनुभव नहीं है लेकिन जिस तरह से यह बल्लेबाजी करता है उससे बड़े-बड़े बल्लेबाज भी पानी मांगने लगते हैं.


एक आम अवधारणा है कि जब कोई बल्लेबाज शतक लगा लेता है तो वह अपने शॉट जल्दी-जल्दी खेलने लगता है जिसकी वजह से वह गेंदबाज के भेंट चढ़ जाता है. लेकिन पुजारा में वह हड़बड़ाहट नहीं दिखती. वह गेंदबाजों को उसी अंदाज में खेलते हैं जिस अंदाज में शतक लगाने से पहले खेलते हैं. उनकी खूबी यह है कि टीम लड़खड़ाती रहे लेकिन वह एक मंझे हुए खिलाड़ी की तरह टीम को एक छोर पर संभाले रहते हैं.


sehwagविरेंदर सहवाग: भारत का यह ताबड़तोड़ बल्लेबाज जब अपने रंग में होता है तब एक पारी से ही विरोधी खेमे में खलबली मचा देता है. उनकी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने अहमदाबाद टेस्ट में 117 गेंदों पर 117 रन पारी खेली. उन्होंने भारत के लिए ऐसे कीर्तिमान स्थापित किए जिसके सामने सचिन तेंदुलकर भी बौने लगने लगते हैं. उनका खेलने का स्टाइल विश्व प्रसिद्ध है. वह खेल के किसी भी स्वरूप में अपना खेलने का स्टाइल कभी भी नहीं बदलते. यही अंदाज उनको अन्य खिलाड़ियों से अलग बनाता है. लेकिन बीते दो सालों से वह अपने रंग में दिखाई नहीं दे रहे हैं. टीम में खराब प्रदर्शन की वजह से वह कई बार टीम के अंदर बाहर भी हुए. कई तरह के सवाल उन पर खड़े किए गए. अहमदाबाद में उनके शतक से उनके साथ-साथ भारतीय टीम को भी काफी राहत मिलेगी. उनके इस शतक से टीम में जो ओपनिंग की समस्या थी उसमें थोड़ा बहुत सुधार देखने को मिला. अब बस जरूरत है कि सहवाग अपने इस प्रदर्शन को आगे भी बरकरार रखें.


Read: विजयी युवराज सिंह के पीछे हैं कई हीरो


युवराज सिंह: सात महीने पहले जब अमेरिका में फेफड़े के कैंसर का इलाज कराने के बाद भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह स्वदेश लौटे थे तक किसी ने उस समय अंदाजा भी नहीं लगाया था कि यह बल्लेबाज भारत के लिए टेस्ट मैच खेलेगा. उस समय हर कोई यह सलाह दे रहा था कि युवराज को अभी एक-दो साल क्रिकेट से दूर रहना चाहिए. लेकिन युवराज ने किसी और की बात न सुनकर अपने दिल की सुनी. वह न केवल अंतरराष्ट्रीय मैदान पर उतरे बल्कि लगातार बेहतर प्रदर्शन करके टेस्ट टीम में अपनी जगह बनाई. उन्होंने पिछले घरेलू मैच में दोहरा शतक जड़ा और इंग्लैंड के साथ अभ्यास मैच के एक मैच में पांच विकेट लिए. अहमदाबाद में उनके शानदार प्रदर्शन से मिडल ऑर्डर की समस्या कुछ हद तक टलती नजर आ रही है.


Read

इनके अंदाज के सभी हैं कायल

एक कोच जिसने चाइनीज खिलाड़ियों को हराना सिखाया

‘बलात्कार’ को अपनी पहचान बना रहे हैं समाजवादी !!


Tag: Virender Sehwag, Cheteshwar Pujara, yuvraj singh, India v England, Live cricket score, Sardar Patel Stadium, Motera, Ahmedabad Test, First-class matches, अहमदाबाद, भारत, इंग्लैंड, टेस्ट मैच, विरेंद्र सहवाग, चेतेश्वर पुजारा, ग्राम स्वान.




Tags:                                                                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran