blogid : 7002 postid : 693606

वनडे टीम को ‘पुजारा’ की जरूरत

Posted On: 25 Jan, 2014 Others,Sports and Cricket में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इस समय भारतीय क्रिकेट टीम न्यूजीलैंड के साथ उसी की जमीन पर मैच खेल रही है जहां उसकी स्थिति डांवाडोल बनी हुई है. केवल विराट कोहली को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज अपनी क्षमता के अनुसार प्रदर्शन नहीं कर पार रहा है. ऐसे में उस बल्लेबाज को सबको ज्यादा याद किया जा रहा है जो इस तरह की कंडीशन में अच्छी बल्लेबाजी कर लेता है. वह बल्लेबाज और कोई नहीं चेतेश्वर पुजारा है.

वर्तमान में भारतीय टीम का प्रदर्शन देखकर हाल ही में पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ने कहा कि भारत को अपनी वन-डे टीम में चेतेश्वर पुजारा और जहीर खान की जरूरत है.


pujara 1चेतेश्वर पुजारा का जीवन

भारत के दाएं हाथ के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा का जन्म 25 जनवरी, 1988 को गुजरात के राजकोट में हुआ. उनका पूरा नाम चेतेश्वर आनंद पुजारा है. उन्होंने क्रिकेट का शुरुआती प्रशिक्षण अपने पिता ए.एस. पुजारा और अंकल बीएस पुजारा के साथ लिया. वह अपने पिता को ही अपना आदर्श मानते हैं. पुजारा घरेलू क्रिकेट मैच में सौराष्ट्र के लिए खेलते हैं.


Read: इन फिल्मों ने जंग-ए-आजादी की याद दिलाई


चेतेश्वर पुजारा का कॅरियर

अक्टूबर 2010 में आस्ट्रेलिया के विरुद्ध पुजारा ने अपने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट कॅरियर की शुरुआत की. उन्हे जब टेस्ट में पहली बार मौका मिला था तो उन्होंने 72 रन की शानदार पारी खेलकर इस मौके को भुनाया. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मैचों में उन्होंने कई बार दिखाया है कि वह बड़ी पारी खेलने में भी सक्षम हैं.


पुजारा के रिकॉर्ड

  1. पुजारा ने नवंबर 2012 में अहमदाबाद के सरदार पटेल स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ खेलते हुए नाबाद 206 रन बनाए.
  2. नवंबर 2012 में मुंबई में पुजारा ने इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी में 135 रन की पारी खेली.
  3. अगस्त 2012 में न्यूजीलैंड के खिलाफ हैदराबाद में पहले टेस्ट मैच में सौराष्ट्र के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने शानदार 159 रन की पारी खेली.
  4. मार्च 2013 में अस्ट्रेलिया के खिलाफ 204 रन की शानदार पारी खेलकर पुजारा ने टेस्ट मैचों में अपने 1000 रन पूरे किए. पारी की संख्या के लिहाज से वह 1000 रन बनाने वाले दूसरे सबसे तेज भारतीय हैं.
  5. हाल के दिनों में पुजारा ने दक्षिण अफ्रीका में उछाल भरी पिचों पर धैर्य, प्रतिबद्धता और आक्रामकता के मिश्रण की बेजोड़ मिसाल पेश करते हुए मेजबान टीम की धज्जियां उड़ाई थी. वह टीम में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने. उन्होने 70 की औसत से 280 रन बनाए.
  6. पुजारा अब तक 17 टेस्ट मैच खेल चुके हैं, जिसमें उन्होंने 66.25 की औसत से 1590 रन बनाएं हैं. इसमे 6 शतक और 3 अर्द्धशतक भी शामिल है.

भारत के इस खिलाड़ी ने बहुत ही कम वक्त में वह जगह हासिल की जिसके लिए यह कहा जा रहा था कि महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ के संन्यास के बाद उनका विकल्प कौन होगा. वैसे राहुल द्रविड़ से इनकी तुलना करना बेमानी होगा लेकिन मैच दर मैच जिस तरह से पुजारा ने अपने आप को साबित किया है उसके बाद से तो यह कहा जा सकता है कि पुजारा ही द्रविड़ के विकल्प हैं. खुद को टेस्ट में साबित करने के बाद पुजारा वनडे और टी20 टीम में भी जगह बनाना चाहते हैं. वैसे जिस तरह से पुजारा प्रदर्शन कर रहे हैं वह दिन दूर नहीं जब पुजारा भारतीय वनडे टीम में भी एक अहम खिलाड़ी की भूमिका में होंगे.


Read more:

विदेशी जमीन पर हारे हुए खिलाड़ी कैसे जीतेंगे विश्वकप

क्या राहुल द्रविड़ का स्थान ले पाएंगे चेतेश्वर पुजारा ?



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

KAVI के द्वारा
January 26, 2014

BCCI given chance after loo long time to Pujara other wise many records may be in name of Pujara.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran