blogid : 7002 postid : 1335052

पिछले मैच के हीरो रहे सरफराज, फाइनल में ऐसे खा सकते हैं अपनी ही टीम से धोखा!

Posted On: 13 Jun, 2017 Sports and Cricket में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

‘हारते-हारते जीतने वाले को बाजीगर कहते हैं’ पाकिस्तान की कल की जीत को देखते हुए डायलॉग में थोड़ा बदलाव होना लाजिमी है. श्रीलंका और पाकिस्तान में कांटे की टक्कर देखने को मिली. पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद (61*) ने कप्तानी पारी खेली और अपनी टीम को जीत दिला दी.


pak team with captain

इससे पहले 162 पर 7 विकेट गंवा चुका पाकिस्तान एक समय हार की कगार पर पहुंच गया था. सरफराज की यह पारी निर्णायक साबित हुई और इसकी बदौलत पाकिस्तान ने हारी हुई बाजी पलटकर यह मैच अपने नाम कर लिया.


pak team

लेकिन इस मैच में पाक टीम को जुर्माने का सामना भी करना पड़ा. मैच के बाद सरफराज के सामने मुश्किल खड़ी हुई. उन्हें स्लो ओवर रेट के लिए फाइन किया गया. मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड ने उन्हें बताया कि तय समय में उनकी टीम ने एक ओवर कम फेंका था. आईसीसी के नियम 2.5.1 के हिसाब से ओवर रेट में छोटी-मोटी समस्या के लिए प्लेयर्स की मैच फ़ीस का 10% हिस्सा काट लिया जाता है.


pak 3

साथ ही कप्तान के डबल पैसे कटते हैं. इस लिहाज से सरफराज की 20% मैच फीस कटी है. वहीं अब पाकिस्तान के कप्तान सरफराज के सामने एक और मुसीबत सामने आ सकती है. अगर पाकिस्तान टीम इग्लैंड के साथ हुए सेमीफाइनल मैच में दोबारा स्लो रेट से ओवर फेंकती है तो प्लेयर्स के उतने ही पैसे काटेंगे लेकिन कप्तान साहब को एक मैच के इए सस्पेंड कर दिया जायेगा.


pak team 1

इसका सीधा-सा मतलब ये है कि सेमी फाइनल में पाकिस्तान को ओवर रेट मेन्टेन करके रखना पड़ेगा वरना अगर टीम सेमी फाइनल जीत जाती है और ओवर रेट कम निकला तो सरफराज को अगले मैच यानी फाइनल में खेलने को नहीं मिलेगा.

अब देखना ये है कि पाकिस्तान फाइनल तक पहुंच पाती है या नहीं. …Next



Read More :

विराट को सफल बनाने में इनका है अहम रोल, गिफ्ट में दी थी ये महंगी कार

विवादों में रही भारत के इन क्रिकेटरों की शादियां

ये हैं क्रिकेट इतिहास के 7 फ्लॉप नियम



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran