blogid : 7002 postid : 1352290

कोई 35 रुपए में करता था काम तो किसी को नहीं मिलता थी दो वक्त की रोटी, ये क्रिकेटर गरीबी को मात देकर बने हीरो

Posted On: 11 Sep, 2017 Sports and Cricket में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कहते हैं कमल हमेशा कीचड़ में ही खिलता है. प्रतिभा का कोई वर्ग नहीं होता. भारतीय क्रिकेट जगत में कई ऐसे सितारे हैं, जिन्होंने गरीबी और तंगहाली भरे दिन बिताए हैं. अपने इन दिनों को मात देकर आज ये क्रिकेटर नाम कमा रहे हैं. आइए, जानते हैं इन क्रिकेटर्स के बारे में.


cricketers


विनोद कांबली


vinod


क्रिकेट में आने से पहले विनोद कांबली का परिवार बहुत ही गरीब था और मुंबई के एक चॉल में रहता था. सात लोगों के परिवार में कांबली के पिता ही एक कमाने वाले व्यक्ति थे, लेकिन कांबली ने अपनी मेहनत से भारतीय क्रिकेट टीम में अपनी जगह बनाई. टीम से बाहर होने के बाद भी कांबली मुंबई के लिए रणजी मैच खेलते रहे.


भुवनेश्वर कुमार


bhuvi


भुवनेश्वर अपने उन दिनों को याद करते हैं तो और भी जोश और जज्बे से भर जाते हैं. मौजूदा समय में भारत के सबसे बेहतरीन स्विंग गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार मेरठ के एक बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखते थे. भुवनेश्वर के मुश्किल दिनों में उनके पिता और बहन ने बहुत साथ दिया और हमेशा उनको क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया। भुवनेश्वर की मेहनत रंग लाई और वो भारतीय में सफल क्रिकेटर हैं.


इरफान और युसुफ पठान


irfan

इरफान पठान 19 साल की उम्र में टीम इंडिया का हिस्सा बने थे. इनके कुछ सालों बाद 2008 में युसूफ पठान ने डेब्यू किया. दोनों भाईयों के पिता वडोदरा, गुजरात की एक मस्जिद में देख-रेख किया करते थे. घर के सभी सदस्यों को पिता के थोड़े पैसों पर ही गुजारा करना पड़ता था. इन दिनों में भी दोनों ने क्रिकेट खेलना नहीं छोड़ा और गली में घंटों क्रिकेट खेला करते थे.


मुनाफ पटेल


munaf patel


मुनाफ ने इतनी तंगहाली में जिंदगी बिताई है, कि उन्हें मात्र 35 रुपए के लिए 8 घंटे रोजाना काम करना पड़ता था. मुनाफ एक टाइल फैक्टरी में काम किया करते थे. उनकी गरीबी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनके परिवार के पास कपड़े तक नहीं थे. साल में एक बार कपड़े सिलवाए जाते थे लेकिन मुनाफ ने हार नहीं मानी और टीम में अपनी खास जगह बनाई.


उमेश यादव


umesh


उमेश के पिता कोयले की खान में काम करते थे और बड़ी ही मुश्किल से अपने परिवार को दो वक्त का भोजन दे पाते थे. कभी-कभी तो वो भी नसीब नहीं होती थी, लेकिन बुरा वक्त बीता और उमेश ने कड़ी मेहनत के बल पर भारतीय टीम में शामिल हो गए. …Next


Read More:

धोनी समेत ये हैं दुनिया के 4 सबसे बेहतरीन विकेटकीपर

चैम्पियंस ट्रॉफी में विराट नहीं बल्कि इस देश के कप्तान है सबसे यंग, जानें 8 कप्तानों की उम्र

क्रिकेट इतिहास में इन 5 खिलाड़ियों ने लगाए हैं सबसे कम पारी में 100  छक्के



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran