blogid : 7002 postid : 1360136

क्‍या सचिन-क्‍या माही, जब खुद को रोने से रोक नहीं पाए ये स्‍टार क्रिकेटर

Posted On: 12 Oct, 2017 Sports and Cricket में

Avanish Kumar Upadhyay

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इंडिया में क्रिकेट को एक धर्म की तरह माना जाता है। क्रिकेट को लेकर भारतीयों की दीवानगी जगजाहिर है। क्रिकेटर्स के रिकॉर्ड हों या फिर उनकी लाइफस्‍टाइल, फैंस हर एक बात से खुद को अपडेट रखते हैं। मगर स्‍टेडियम में कभी-कभी ऐसी घटनाएं भी हो जाती हैं, जिन्‍हें देखकर फैंस की आंखें भी गीली हो जाती हैं। ये आंसू कभी गम में निकलते हैं, तो कभी खुशी में भी नजर आ जाते हैं। आइये आपको बताते हैं ऐसी ही कुछ घटनाओं के बारे में, जब‍ कैमरे के सामने ही कई स्‍टार क्रिकेटरों की आंखें भर आईं।


cricketers


सचिन तेंदुलकर


sachin


क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के कॅरियर में ऐसे कई मौके आए, जब उनकी आंखें नम हो गईं। पहली बार उन्‍हें 15 नवंबर 1989 को पाकिस्तान के खिलाफ अपने डेब्यू मैच के दौरान रोते हुए देखा गया था। इसके बाद सन् 1999 में चेन्‍नई टेस्ट में टीम इंडिया को जीत दिलाने के अंतिम क्षणों में जब वे आउट हो गए, तो उनकी आंखें नम हो गईं थीं। 1999 में सचिन अपने पिता के निधन के बाद भी बल्‍लेबाजी करने उतरे और शतक ठोका, जिसके बाद वे भावुक हो गए। 2011 में इंडिया के विश्‍वकप जीतने पर भी सचिन की आंखों में आंसू आ गए थे। 16 नवंबर 2013 को अपने विदाई मैच के बाद सचिन बहुत ज्‍यादा रोने लगे थे, जिसे देखकर उनके बेटे अर्जुन और उनके करोड़ों फैंस की आंखें भी नम हो गई थीं।


महेंद्र सिंह धोनी


dhoni


टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और कैप्‍टन कूल के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी को गुस्‍से में या फिर भावुक होते बहुत कम देखा गया है। मगर कुछ मौके ऐसे आए, जब धोनी भी भावुक होने से खुद को रोक नहीं पाए। बताया जाता है कि 2014 में टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद जब धोनी ड्रेसिंग रूम में पहुंचे, तब वे बहुत रोए थे। माही को रोता देखकर उनके साथी खिलाड़ियों की भी आंखें भर आई थीं।


विराट कोहली


Virat Kohli


टीम इंडिया के कप्‍तान विराट कोहली भी खुद को रोने से रोक नहीं पाए हैं। 2016 टी-20 वर्ल्‍डकप के फाइनल में भारत हार गया, जिसके बाद कोहली की आंखें नम हो गई थीं। इसके अलावा जब कोहली को भारतीय टेस्‍ट टीम का कप्‍तान बनाया गया, तो वे इतने इमोशनल हो गए कि उनकी आंखों से आंसू निकल आए।


युवराज और हरभजन


yuvi bhajji


भारत के लिए 2011 का विश्‍वकप कभी न भूलने वाली उपलब्धि है। युवराज सिंह और हरभजन दोनों ही 2011 के विश्वकप का हिस्सा थे। विश्‍वकप जीतने के बाद सबसे ज्यादा रोने वाले खिलाड़ी इन दोनों को ही कहा जाता है। जीत के बाद जश्‍न मना रहे ये दोनों सितारे काफी देर तक मैदान पर ही एक-दूसरे के गले लगकर रोते रहे। इन दोनों को जितना चुप कराने की कोशिश की जा रही थी, ये उतना ज्यादा रो रहे थे।


एस. श्रीसंत


shreesanth


क्रिकेटरों के रोने की बात हो और एस श्रीसंत का नाम न आए, ऐसा हो ही नहीं सकता। 2008 के आईपीएल सीजन में श्रीसंत का फूट-फूटकर रोना सुर्खियों में रहा था। दरअसल, किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से खेलते हुए श्रीसंत ने हरभजन के आउट होने पर हार्ड लक कहते हुए उन्‍हें चिढ़ाना चाहा। इस पर हरभजन ने कथित तौर पर श्रीसंत को थप्पड़ जड़ दिया था। इसके बाद क्रिकेट फैंस ने श्रीसंत को रोते हुए देखा।


कपिल देव


kapil dev


28 साल के लंबे अंतराल के बाद 2 अप्रैल 2011 को जैसे ही भारत ने विश्वकप जीता, पूरा देश खुशी से झूम उठा। भारत ने मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में श्रीलंका को हराकर क्रिकेट वर्ल्ड कप अपने नाम कर लिया था। इस दौरान टीवी पर पूर्व क्रिक्रेटर कपिल देव मौजूद थे। भारत की जीत के बाद शो का एंकर उनसे सवाल कर रहा था, लेकिन कपिल की आंखों से आंसू बह रहे थे। इस जीत के बाद खुशी की वजह से वे काफी भावुक हो गए थे।


Read More:

कभी नहीं थे खाना खाने के पैसे, आज मुंबई में आलीशान घर के मालिक हैं हार्दिक पंड्या
बिग बी की जिंदगी से जुड़े वो बड़े विवाद, जब 'अपनों' ने ही उठाए उन पर सवाल
भारत नहीं पाकिस्तान ने T-20 में जीते हैं सबसे ज्यादा मैच, जानें बाकी टीमों का हाल



Tags:                                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran